चीन के साथ पाक भी हरकत में, कर रहा है सेना का जमावड़ा, भारत ने दी सेना को खुली छूट,चीन के 35 सैनिक ढेर।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 17 जून 2020। भारत की सीमा पर लगातार तनाव बढ़ता जा रहा है। भारत ने सेना को खुली छूट दे दी है एक हाई लेवल मीटिंग में ये फैसला लिया गया है। चीन और भारत में बात बे नतीजा रही है और चीन के साथ पाक भी हरकत में आ रहा है और पाक की ओर से सरहद पर सेना का जमावड़ा भी हो रहा है। भारत की मुश्किलें दोनों तरफ से बढ़ रही है। भारत और चीन के सैनिकों के बीच गलवान घाटी के पास हुई हिंसक झड़प में चीन को भी भारी नुकसान हुआ है। बॉर्डर के पास हुए तनाव के बाद बड़ी संख्या में एम्बुलेंस, स्ट्रेचर पर घायल और मृत चीनी सैनिकों को ले जाया गया। बताया जा रहा है कि चीन के करीब 40 से अधिक सैनिक हताहत हुए हैं। हालांकि, चीन ने अपनी ओर से इसकी कोई पुष्टि नहीं की है। सूत्रों के अनुसार, इस घटना में चीन का भी एक कमांडिंग अफसर मारा गया है, जो कि झड़प की अगुवाई कर रहा था। बता दें कि भारतीय सेना के भी कमांडिंग अफसर की इस झड़प में जान गई थी।
एम्बुलेंस में ले जा रहा सैनिकों को
सूत्रों के हवाले से जो खबर मिली है, उसके मुताबिक 15-16 जून की रात को गलवान घाटी के पास दोनों देशों के सैनिकों के बीच जो हिंसक झड़प हुई, उसमें चीन को बड़ा नुकसान हुआ है। इस नुकसान के अनुमान का आधार ये है कि चीन बॉर्डर पर स्ट्रेचर, एम्बुलेंस के जरिए घायल-मृत सैनिकों को ले जा रहा है. इसके अलावा गलवान नदी के पास चीनी हेलिकॉप्टर की हलचल बढ़ी है, जिसके जरिए सैनिकों को ले जाया जा रहा है।
इसके अलावा जो सैनिक चीन के साथ हुई इस झड़प शामिल थे, उन्होंने भी इस बात की पुष्टि की है। हालांकि, चीन को कितना नुकसान हुआ है इसका सटीक आंकड़ा अभी सामने नहीं आया है हालांकि 40 के करीब की संख्या बताई जा रही है।
चीन ने हताहतों की संख्या मानने से किया इनकार
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। इससे पहले मंगलवार को भी ग्लोबल टाइम्स की ओर से इस बात को स्वीकारा गया था कि चीन को भारी नुकसान हुआ है। लेकिन बाद में वह संख्या बताने से मुकर गया था, इसके अलावा चीनी विदेश मंत्रालय ने भी कोई संख्या नहीं दी थी।


दूसरी ओर भारतीय सेना की ओर से अपने आधिकारिक बयान में जानकारी दी गई कि भिड़ंत में 20 जवान शहीद हुए हैं। शुरुआत में तीन के शहीद होने की जानकारी सामने आई थी, उसके बाद अन्य 17 को जोड़ा गया। सेना की ओर से बुधवार को इन सभी 20 शहीदों के नाम जारी किए जाएंगे।
गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच मई के महीने से ही लद्दाख में तनाव चल रहा था। समझौते के तहत चीन को मौजूदा जगह से पीछे हटना था, जब भारतीय सेना के जवान वहां पर उसे सूचित करने पहुंचे। तो धोखे से चीनी सेना ने भारतीय जवानों पर हमला कर दिया। इसी दौरान भारत के कमांडिंग अफसर समेत कुल 20 जवान शहीद हो गए।