July 19, 2024

श्रीडूंगरगढ टाइम्स 21 मई 2020। कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन में विशेष श्रेणियों के परिवारों के हालात भी अब चितंनीय हो रहे है। इनमें सरकार ने विशेष श्रेणी के परिवारों का सर्वे करने की जिम्मेदारी बीएलओ को सौपीं है। करीब 60 दिनों के लॉकडाउन में कोविड-19 की परिस्थितियों के कारण अस्थाई रूप से खाद्यान सहायता हेतु शहरों में बीएलओ इन परिवारों की रिपोर्ट करेंगे जिससे इन्हें राशन मिल सकेगा। सरकार ने इस श्रेणी में संभावित श्रमिकों की सूचि भी जारी की है जिनमें दैनिक रूप से कार्य करने वाले लोग शामिल है। इनमें नाई, धोबी, मोची, घरेलू नौकर, भिखारी, रिक्शा चालक, ऑटो चालक, पान की दुकान, रेस्टोरेंट में कार्यरत वेटर, रद्दी वाले, निर्माण मजदूर, कोरोना के कारण बंद हुए उद्योगों में लगे हुए मजदूर, होटल/रेस्टोरेंट में कार्यरत मजदूर, माइग्रेट लेबर जो बाहर से आए, ड्राईवर/कंडक्टर जो प्राइवेट पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जुड़े है, जूते पॉलिश करने वाले, स्ट्रीट वेन्डर जो एनएफएसए में नहीं हों, ठेले वाले/रेहड़ी वाले, मंदिर में पूजा पाठ करने वाले, अन्य पूजा पाठ कराने वाले पंडित, मैरिज पैलेस में काम करने वाले मजदूर, सिनेमा हॉल में काम करने वाले मजदूर, कोचिंग सेन्टरों के सफाई/नौकर का कार्य करने वाले व्यक्ति, बैंड वादक/घोड़ी वाले, कैटरिंग कार्य से संबंधित कार्मिक, आरा मशीन श्रमिकों को इसमें शामिल किया जाएगा। ये कार्य ग्रामीण क्षेत्रों में 20 मई से 24 मई के बीच ही पूरा किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!