June 22, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 20 मई 2023। श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र में सिंचित खेती बढ़ने के कारण क्षेत्र में लगभग भूमि तारबंदी में घिर चुकी है। ऐसे में क्षेत्र में जंगली जानवरों का मूवमेंट आबादी क्षेत्रों के आस पास बढ़ रहा है। इसी दौर में क्षेत्र में कई बार तेंदुए के मूवमेंट की अफवाहें भी उड़ रही है लेकिन अधिकतर जगहों पर जांच में तेंदुए की बजाए जंगली बिल्ली का होना पाया जाता है। इसी प्रकार क्षेत्र के गांव बरजांगसर में ईश्वरराम सिहाग के खेत में एक जंगली बिल्ली ने पड़ी लकड़ियों के ढ़ेर में अपनी गुफा बनाई है एवं उसमें बच्चों को जन्म भी दिया है।

ईश्वरराम सहित आस पास के खेतों के किसान परिवार दहशत में है व अपने छोटे बच्चों की सुरक्षा को लेकर आतंकित है। ग्रामीणों ने बताया कि इस जानवर की आवाज मानव बच्चे की तरह है। ये मादा जगंली बिल्ली दूर से देखने पर तेंदुएं जैसी लगी तो ग्रामीणों एवं खेत मालिक ने दूर से वीडियों बना कर श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स को भेजा।

टाइम्स ने वन विभाग अधिकारियों एवं वन्य पशु विशेषज्ञों से वीडियो की पुष्टि की तो उसमें इस जानवर को जंगली बिल्ली के रूप में चिन्हित किया गया है। श्रीडूंगरगढ़ के रेंजर जितेन्द्र सिंह ने बताया कि यह पशु सामान्य रूप से इंसानों एवं बड़े पशुओं के लिए खतरनाक नहीं है और खेतों में चूहों, खरगोशों आदि का ही शिकार करता है। लेकिन प्रजनन काल में मादा बिल्ली द्वारा अपने बच्चों पर खतरा मान कर किसी पर हमला भी किया जा सकता है। ऐसे में इन्हें छेड़े बिना ही इनके जंगली वातावरण में रहने दिया जाए यही सही है।

वीडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें |

https://www.facebook.com/sridungargarhtime/videos/232150966176684

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!