मेटल डिटेक्टर से होगी जांच, डेढ़ घण्टे पहले पहुंचे केंद्र पर, 5 दिन फ्री सफर, पढ़ें पूरी जानकारी।


श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 22 अक्टूबर 2021। पटवारी भर्ती परीक्षा की गाइडलाइन जारी की गई है जिसमें सभी परीक्षार्थियों को डेढ़ घण्टे पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचने के लिए कहा गया है। पूरे राजस्थान में 23 और 24 अक्टूबर को 5378 पदों के लिए पटवारी भर्ती परीक्षा का आयोजन होने जा रहा है। जिसमें दोनों दिन सुबह 8:30 बजे से 11:30 बजे तक पहली पारी, जबकि 2:30 से शाम 5:30 बजे तक दूसरी पारी में परीक्षा का आयोजन करवाया जाएगा।इस परीक्षा में कुल 15 लाख 62 हजार 995 अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। परीक्षार्थियों की संख्या को देखते हुए परीक्षा से 24 घंटे पहले ही जहां पुलिस-प्रशासन की टीमों ने प्रदेशभर में सतर्कता और निगरानी बढ़ा दी है। वहीं कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा भी लगातार नकल पर नकेल कसने के लिए रणनीति बनाई जा रही है।

मेटल डिटेक्टर से होगी जांच

रीट और सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा में हुई धांधली के बाद राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड पूरी तरह से सतर्क हो गया है। प्रदेशभर के 23 जिलों में परीक्षा केंद्रों पर अभ्यर्थियों की मेटल डिटेक्टर से जांच के बाद ही उन्हें परीक्षा केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश के संदिग्ध परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएंगे। जहां संदिग्ध छात्रों की विशेष मॉनिटरिंग की व्यवस्था भी की गई है। इसके लिए प्रशासनिक अधिकारियों के साथ फ्लाइंग स्क्वायड, ऑब्जर्वर, केंद्र अधीक्षक और आंतरिक सतर्कता दल के साथ विशेष निगरानी दल बनाया गया है। जो अलग-अलग परीक्षा केंद्रों पर औचक निरीक्षण करेंगे।

7 साल की सजा

इसके साथ ही परीक्षा में किसी भी तरह की लापरवाही बरतने पर अभ्यर्थी के खिलाफ 1992 अधिनियम के अंतर्गत कानूनी कार्रवाई की जाएगी। जिसमें दोषी पाए जाने पर अभ्यर्थी को 7 साल जेल में बिताने पड़ सकते हैं।

23 जिलों में ही आयोजित होगी परीक्षा

परीक्षा में प्रदेश के 33 में से सिर्फ 23 जिलों में ही परीक्षा का आयोजन किया जायेगा। जिसके तहत बाड़मेर, चूरु, धौलपुर, जैसलमेर, जालौर, झुंझुनूं, करौली, पाली, प्रतापगढ़ और सीकर में परीक्षा का आयोजन नहीं होगा। वहीं 23 अक्टूबर को पंचायत चुनाव के मद्देनजर अलवर में भी परीक्षा का आयोजन नहीं होगा। हालांकि 24 अक्टूबर को अलवर में परीक्षा का आयोजन कराया जाएगा।

डेढ़ घंटे पहले पहुंचना होगा परीक्षा केंद्र

परीक्षा के लिए कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से निर्धारित की गई ड्रेस कोड की पालना करना भी अनिवार्य होगी। ड्रेस कोड का पालन नहीं करने वाले अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। परीक्षा के दौरान पानी की बोतल, पर्स, बैग, ज्योमैट्री, पेंसिल बॉक्स, प्लास्टिक पाउच, कैल्कुलेटर, तख्ती, पैड, गत्ता, पैन ड्राइव, रबर, टेबल स्कैनर, किताबें, नोटबुक, पर्चियां, व्हाइटनर लाने पर रोक रहेगी। इसके साथ ही डेढ़ घंटे पहले अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्रों पर रिपोर्टिंग करनी होगी जहां से जांच के बाद अभ्यर्थियों को परीक्षा केंद्र में प्रवेश मिलेंगे जबकि लेट आने वाले अभ्यर्थियों को निर्धारित वक्त के बाद प्रवेश नहीं दिया जायगा।

5 दिन रोडवेज बसों में कर सकेंगे फ्री में सफर

राजस्थान में होने जा रही पटवारी भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थी प्रदेशभर में रोडवेज बसों में 5 दिन तक मुफ्त सफर कर सकेंगे। जिसके तहत अभ्यर्थी भर्ती परीक्षा से 22 अक्टूबर से 26 अक्टूबर तक रोड़वेज बसों में फ्री में सफर कर सकेंगे। राजस्थान रोडवेज से जारी आदेशों के मुताबिक परीक्षा शुरू होने से 2 दिन पहले और पेपर खत्म होने के एक दिन खत्म होने के अगले दिन तक परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स रोडवेज बसों में फ्री सफर कर सकते हैं। इस दौरान अभ्यर्थी गांव या शहर से परीक्षा केन्द्र तक जाने और वापस आने के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध नहीं होने पर एक से अधिक कनेक्टिंग बस का उपयोग कर सकेंगे।

फ्री सफर के लिए अभ्यर्थी को अपना प्रवेश पत्र और मूल दस्तावेज दिखने होंगे। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बताया कि आम छात्रों की सहूलियत के लिए रोडवेज बसों के साथ ही निजी बसों का भी इस्तेमाल किया जाएगा। ताकि अभ्यर्थी समय रहते परीक्षा केंद्र तक पहुंच सके। प्रताप सिंह ने बताया कि इसके लिए रोडवेज अधिकारी, राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के साथ ही जिला स्तर पर अधिकारियों से चर्चा के बाद बसों की संख्या निर्धारित करेंगे, जिनमें प्रदेशभर के अभ्यर्थी फ्री में सफर कर सकेंगे।

5 लाख महिलाएं एक दिन पहले दें सकेंगी परीक्षा

पटवारी भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाली महिला अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है। करवा चौथ को देखते हुए राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने 5 लाख से ज्यादा महिला अभ्यर्थियों को राहत देते हुए 23 अक्टूबर को ही उनकी परीक्षा करवाने का फैसला लिया है, जिनकी परीक्षा 24 अक्टूबर को होनी है। हालांकि अलवर और धौलपुर में पंचायत चुनाव के कारण 23 अक्टूबर की बजाय 24 अक्टूबर को ही परीक्षा होगी। वहां महिला कैंडिडेट को घर के नजदीक के एग्जाम सेंटर अलॉट किए गए हैं।

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने बताया कि 24 अक्टूबर को करवा चौथ होने के कारण 23 अक्टूबर को ही सभी महिला कैंडिडेट की परीक्षा आयोजित करवा दी जाएगी। ताकि 24 अक्टूबर को करवा चौथ का पर्व वो अपने घर-परिवार में मना सकें। इसके साथ ही अलवर में पंचायती चुनाव के कारण परीक्षा 23 की बजाय 24 अक्टूबर को रखी गई है। ऐसे में महिला कैंडिडेट को नजदीकी जगह ही परीक्षा केन्द्र अलॉट किए गए हैं। ताकि वह व्रत में भी आसानी से परीक्षा दे सके।

फ्री में नहीं मिलेगा खाना

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने बताया कि पटवारी भर्ती परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों के लिए ठहरने की विशेष व्यवस्था की जरूरत नहीं होगी। क्योंकि प्रत्येक अभ्यर्थी को उसके नजदीकी जिले में ही परीक्षा केंद्र आवंटित किया गया है। ऐसे में अभ्यर्थी परीक्षा देकर उसी दिन फिर से अपने गृह जिले में जा सकता है। इसके साथ ही अभ्यर्थियों के भोजन की व्यवस्था के लिए कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है। हालांकि कई जिलों में स्वयंसेवी संस्थाओं और भामाशाह द्वारा अभ्यर्थियों के लिए भोजन पैकेट बनाए जा रहे हैं।

इन 4 चरणों में होगी भर्ती परीक्षा

प्रदेश में चार चरणों में आयोजित पटवारी भर्ती परीक्षा में 15 लाख 62 हजार 995 अभ्यर्थी पंजीकृत है। जिसमें प्रत्येक चरण में करीब 4 लाख परीक्षार्थी परीक्षा में होंगे शामिल होंगे। इसमें पहले चरण में 1158 परीक्षा केंद्र पर 23 अक्टूबर को सुबह 3 लाख 86 हजार 514 अभ्यर्थी, जबकि 23 अक्टूबर को ही दूसरे चरण में 1170 परीक्षा केंद्र पर 3 लाख 91 हजार 214 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। इसी तरह 24 अक्टूबर को तीसरे चरण में 1177 परीक्षा केंद्र पर 3 लाख 94 हजार 714 अभ्यर्थी, वहीं चौथा चरण में 1169 परीक्षा केंद्र पर 3 लाख 90 हजार 558 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे।

चरण-तारीख – परीक्षार्थी-परीक्षा केन्द्र

पहला 23 अक्टूबर 386514 1158
दूसरा 23 अक्टूबर 391214 1170
तीसरा 24 अक्टूबर 394714 1177
चौथा 24 अक्टूबर 390553 1169

इंटरनेट बंद करने का फैसला जिला स्तरीय अधिकारी करेंगे

इंटरनेट बंद को लेकर निर्णय जिला स्तर पर लिया जाएगा। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा इसको लेकर कोई तैयारी नहीं की गई है। बोर्ड का कार्य परीक्षा का सफल आयोजन करवाना है। इसलिए जरूरी व्यवस्थाओं को लेकर संबंधित विभागों को पहले से ही लिखा जाता है। इंटरनेट बंद करने को लेकर जिला पुलिस अधीक्षक और कलेक्टर जरूरत पड़ने पर संभागीय आयुक्त को पत्र लिखते हैं या फिर संभागीय आयुक्त स्वविवेक से निर्णय ले सकते हैं।

विशेषज्ञों की राय के बाद जारी होगा कट ऑफ

शर्मा ने कहा कि पटवारी भर्ती परीक्षा पूरी होने के बाद परिणाम आने पर हम उसके आधार पर निर्णय लेंगे। अगर चारों प्रश्नपत्र का एवरेज लगभग बराबर आ रहा है, तो फिर हम राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के सॉफ्टवेयर के आधार पर कट ऑफ निकालेंगे। इसके साथ ही हम विशेषज्ञों से भी इसका आकलन करवाएंगे। ऐसे में अगर जरूरत पड़ती है तो हम स्केलिंग फॉर्मूला भी अपनाएंगे। एक्सपर्ट कमेटी के सुझाव पर ही निर्णय लेंगे।