अजमेर शरीफ दरगाह के दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन ने CAA का किया समर्थन


श्रीडूंगरगढ टाइम्स 20 दिसम्बर 2019। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर अजमेर शरीफ दरगाह के दीवान ने इसका सर्मथन किया है। उन्होंने कहा कि इस कानून से भारत मे रहने वाले किसी भी मुसलमान को डरने की जरूरत नहीं है।
अजमेर में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश भर में मचे घमासान के बीच ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह अजमेर के दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन ने बयान जारी कर इस बिल का सर्मथन किया है। साथ ही इसको लेकर फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए केन्द्र सरकार से हाई पॉवर कमेटी बनाने की मांग की है। उन्होनें कहा कि सरकार को कानून बनाने का अधिकार है और देश की जनता को उस का सम्मान करना चाहिए, लेकिन सरकार की भी यह जिम्मेदारी है कि जनभावनाओं का सम्मान करें और ऐसा कोई कानून ना लाएं जिससे जनभावनाएं आहत हो।



CAA से मुसलमानों को डरने की ज़रूरत नहीं- सैयद जैनुअल आबेदीन

श्रीडूंगरगढ टाइम्स। दरगाह दीवान ने कहा की भारत सरकार ने जो नागरिक्ता संशोधन बिल पास करके जो क़ानून का रूप दिया है वो किसी भी तरह से इस देश के मुसलमानों के खिलाफ नहीं है। उन्होंने कहा कि इस कानून से भारत मे रहने वाले किसी भी मुसलमान को डरने की जरूरत नहीं है ना ही उन की नागरिकता को किसी भी प्रकार का ख़तरा है। दरगाह दीवान ने कहा कि देश में इस बिल को लेकर उपजे विवाद को और देश के मुस्लिमों में फैलाए जा रहे डर और भ्रम को दूर करने की आवश्यकता है।

देश के मुसलमानों की भावनाओं का सम्मान करते हुए जनभावनाओं को देखते हुए भारत सरकार को एक हाई पावर कमेंटी का गठन करना चाहिए। यह कमेटी पूरे देश मे भ्रमण कर लोगों से मिल कर उन की बात सुनें इस बिल के बारे में उन के डर उन की शिकायत को सुनकर एक तथ्यात्मक रिपोर्ट सरकार को दे।

दरगाह के दीवान ने जामिया मिलिया की घटना पर जताया दुख

उन्होंने कहा कि सब की भ्रांति और उन के डर को दूर करने के बाद ही इस बिल को लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि दया, मदद यदि धर्म के आधार पर होने लगेगी, तो दुनिया विनाश की ओर ही जाएगी। दरगाह दीवान ने कहा कि जामिया मिल्लिया में जो हुआ वह बहुत दुःख देने वाली घटना है. दरगाह दीवान ने जामिया मिलिया के छात्रों से भी अपील करते हुए कहा की वो किसी भी परिस्थिति में कानून अपने हाथ में ना लें और देश की एकता अखंडता बनाए रखें।