April 25, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 6 सितंबर 2020। क्षेत्र के गांव धोलिया में जबरदस्त बारिश के बाद जमीन धंसने से दहशत का माहौल है और एक परिवार होनी-अनहोनी के साए में समय व्यतीत कर रहा है। गांव धोलिया में ऐसा पहली बार ही हुआ है जब बारिश के बाद जमीन धंसी है एवं इस कारण ग्रामीण सकते में है व लगातार प्रशासन से संपर्क का प्रयास कर रहें है परंतु उन्हें कोई प्रतिउत्तर नहीं मिल पाया है। धोलिया गांव में 3 सितंबर को जम कर बरसात हुई और इस बारिश में रामेश्वर नेण के घर बाखल में जमीन धंस गयी। साधारण किसान परिवार की भैंस उसी स्थान पर बंधी थी जंहा से जमीन में दरारें आ गई और गहरा खडडा हो गया। रामेश्वर ने बताया कि घर की बाखल में बरसात का पानी भर गया और अचानक पानी बहने की तेज आवाज आई तो उसने देखा कि पानी आवाज करते हुए जमीन के अंदर जाने लगा। जमीन धंसने एवं पानी जमीन के अंदर जाने से भयभीत होकर रामेश्वर भाग कर उस स्थान से भैंस को खोल कर लाया और जगह को खाली किया। इस जगह पर जमीन में 5 फीट चौड़ी 15 फुट लंबी और 6 फीट गहरी दरार आ गयी है। इस दरार के माध्यम से ही सारा पानी जमीन में चला गया और अब भी वहां कान लगा कर सुना जाए तो जमीन के अंदर पानी बहने की आवाज भी सुनाई दे रही है। घर के बच्चों को सदस्यों को उधर जाने की सख्ती से मनाही की गई है। जमीन धंसने से मात्र 10 फुट दूर मकान है और एक और10 फुट दूर ही मोबाईल टॉवर खड़ा। किसान नेण ने कहा कि हमें सरकार से कुछ नहीं चाहिए बस जांच करवा देवें की यहां क्या है और कितना अभी और धंस सकता है। ताकी उस हिसाब से दरार में मिट्टी भरवाने या अन्य कोई निर्णय लिया जा सके। गांव के बुजुर्ग यहां पुराने समय में कुआँ रहा होने का अंदेशा भी लगा रहे है तो कई ग्रामीण जमीन धंसने से कुछ ही दूर स्तिथ ट्यूबवेल के कारण ऐसा होने का कयास लगा रहे है। वजह जो भी हो इस वाकये से गांव में दहशत का माहौल है और अधिकारी, सरपंच व ग्रामीणों का फोन ही नहीं उठा रहें है ना ही कोई इन्हें संतोषजनक जवाब दे रहा है। ग्रामीणों की गुहार है कि प्रशासन इस और ध्यान दे एवं बडा हादसा होने से पहले ही घटना पर संज्ञान ले लेवें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!