देखें फोटो और वीडियो। युवा नेता विवेक माचरा के नेतृत्व में किसानों ने प्रशासन को चेताया, अधिकारी ने दी रियायत।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 17 दिसम्बर 2019। क्षेत्र के अन्नदाता आज जमीनों की कुर्की रोके जाने व बिजली बिल भरवाने के लिए समय देने की मांग करते हुए प्रशासन को तुरंत किसानों के साथ अन्याय रोके जाने के लिए चेताया। क्षेत्र के पूनरासर गांव कोडाराम सांसी का खेत सोमवार को बैंक द्वारा नीलाम किया गया जिसके विरोध में युवा नेता विवेक माचरा ने किसानों से मंगलवार को आक्रोश रैली निकालने का आव्हान किया।सुबह से ही तेजा मंदिर में किसान व युवा एकत्र होने लगे रैली के रूप में नारेबाजी करते हुए तहसील कार्यालय का घेराव किया। रैली में किसानों ने जमीन नीलामी व बिजली विभाग द्वारा ट्रांसफार्मर उठा ले जाने की कार्यवाही पर जबरदस्त रोष प्रकट किया तथा इसे तुरंत रोके जाने की मांग की। माचरा ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जमीन किसान की माँ है और अगर किसान के पास जमीन नहीं रही तो उसकी रोजी रोटी का क्या होगा। उसका परिवार सड़क पर आ जायेगा और हम ये किसानों के साथ ये अन्याय नहीं होने देंगे और इसके लिए प्रशासन की ईंट से ईंट बजा देंगे। आक्रोश सभा के दौरान सुरेन्द्र सहू, जेठाराम जाखड़, ओमप्रकाश पोटलिया, मनोज जाखड़, रामप्रताप गोदारा, केशराराम गोदारा, रामप्रताप चाहर, सत्यनारायण चाहर, शंकरलाल विश्नोई, राकेश मूंड, राकेश सारण, मुखराम जाट सहित बडी संख्या में ग्रामीण युवा नेताओं ने कुर्की को किसानों को खिलाफ षडयंत्र करार देते हुए इसे रोकने की मांग की।
तेजा मन्दिर से प्रदर्शनकारी घूमचक्कर, पुराना बस स्टैण्ड, मुख्य बाजार, हाईवे होते हुए उपखण्ड अधिकारी कार्यालय पहुंचें।

किसानों व युवाओं ने रखी मर्यादा
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। किसानों व युवाओं ने बड़ी संख्या में एकत्र हो कर प्रदर्शन किया परन्तु प्रदर्शन मर्यादित रहा। प्रदर्शनकारी कार्यालय के अंदर नहीं गए व कार्यालय के दरवाजे को घेर कर जमीन पर की बैठ गए। इस दौरान तहसीलदार को विडिया कांफ्रेस के लिए अपने कार्यालय से निकल कर पंचायत समिति जाना था लेकिन दरवाजे पर घेराव होने के कारण उन्हे गाडी छोड कर पैदल ही जाना पड़ा। इस दौरान एएसआई हेतराम गोदारा ने समझाईश का प्रयास किया व वार्ता के लिए पांच जनों को उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में अंदर जाने को कहा। लेकिन युवा नहीं माने एवं वार्ता के लिए विद्युत अधिकारियों को भी बुलाने की शर्त रख दी। बाद में थानाधिकारी सत्यनारायण गोदारा की समझाईश पर वार्ता के लिए तैयार हुए एवं दस सदस्यों का प्रतिनिधि मंडल वार्ता के लिए पहुंचा। वार्ता के दौरान प्रदर्शनकारी बाहर नारेबाजी करते रहे।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। मुख्य बाजार से निकली किसानों की विरोध रैली।

किसानों को ये मिल सकी रियायतें
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। उपखण्ड अधिकारी राकेश न्यौल ने मांगे सुनते हुए किसानों को तुरंत रियायतें दी। उन्होंने कहा कि जिन किसानों के कुर्की निकली हुई है व दस प्रतिशत राशि जमा करवा कर कुर्की को 1 साल के लिए स्थगित करवा देने का आश्वासन दिया। इस पर किसान भी संतुष्ट हुए एवं तुंरत कुर्की से राहत मिलने पर आभार जताया। इस दौरान गांवों में अतिरिक्त विद्युत ट्रान्सफार्मर लगा कर रात्रि में होने वाली विद्युत आपूर्ति को दिन में करवाने, ढिले तारों को कसवाने, बेमौसम बारिश से हुए नुकसान का बीमा क्लेम दिलवाने, सर्मथन मुल्य पर खरीद में चुग्गा मूंगफली तुलवाने सहित अन्य मांगों पर भी उपखण्ड अधिकारी ने सकारात्मक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। तहसील कार्यालय के गेट पर नीचे ही बैठे किसान व युवाओं ने जमकर की नारेबाजी।

मृत गाय को उठवाया।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। किसानों व युवाओं की आक्रोश रैली के दौरान स्टेशन रोड पर एक गाय की मृत देह पड़ी थी व वहां से युवा गुजरे तो इस पर युवाओं ने नगरपालिका के प्रति रोष जताया। मंगलवार सुबह ही गाय की मृत्यु होने के पांच से छह घंटे बीत जाने के बाद भी गाय को नहीं उठाने पर रोष जताते हुए मौके पर ही गाय का शव उठाने की मांग की। रैली में शामिल युवा वहीं पर रूक गए एवं पालिका प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। मौके पर जाम की स्थिती बनने पर पुलिस ने पालिका को सूचित किया एवं तुरंत ही ठेकेदार के आदमी आए व गाय का शव वहां से उठाया। युवाओं ने उपखण्ड अधिकारी से वार्ता के दौरान इस विषय पर भी रोष जताया एवं पालिका को इस संबध में पाबंद करने की मांग की।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। अपने क्षेत्र की विश्वनीय व प्रामाणिक खबरों से जुड़ने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें व यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।