अस्पताल में मची चीख पुकार, सामाजिक कार्यकर्ता बने संबल, सात  गंभीर घायल बीकानेर रेफर, पढ़ें हाइवे पर हादसे की अपटेड खबर।




श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 9 दिसम्बर 2022। नेशनल हाइवे पर गांव कितासर के पास हुए हादसे में एक जने की मौत हो गई वहीं सात घायलों को श्रीडूंगरगढ़ चिकित्सालय पहुंचाया गया। बड़ी संख्या में घायलों के एक साथ श्रीडूंगरगढ़ चिकित्सालय पहुंचने पर चिकित्सालय में अफरा-तफरी की स्थिति बन गई एवं घायलों की चीख पुकार सुनाई देने लगी। मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता संबल बने एवं घायलों के प्राथमिक उपचार के बाद बीकानेर भेजा गया। चिकित्सालय में एएसआई हेतराम भी पहुंचें एवं घायलों को बीकानेर भेजने में सक्रिय नजर आए। श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स को प्राप्त जानकारी के अनुसार भिड़ंत वाले वाहन स्विफ्ट कार अलवर के नीमराणा क्षेत्र की थी एवं इसमें सवार राकेश पुत्र महेन्द्र यादव की मौके पर ही मौत हो गई थी। कार में सवार 20 वर्षीय तरूण पुत्र रविन्द्र यादव, 23 वर्षीय अजयसिंह पुत्र सतीश कुमार यादव एवं 30 वर्षीय अजीत पुत्र बलवीर प्रजापत को गंभीर अवस्था में बीकानेर भेजा गया है। वहीं दूसरी गाड़ी बोलेरो क्षेत्र के गांव ठुकरियासर की थी। जिसमें सवार ठुकरियासर निवासी 36 वर्षीय रामकिशन पुत्र रामेश्वरलाल सुथार, 14 वर्षीय जयराम पुत्र रामकिशन, 20 वर्षीय गणेश पुत्र रामप्रताप सुथार एवं परसनेऊ निवासी 34 वर्षीय रामकिशन पुत्र गोपालाराम सुथार को भी बीकानेर रैफर कर दिया गया है।

खुशियों पर लगा ग्रहण, दोनों वाहनो के सवार विवाह में शामिल थे।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। हाइवे पर हुए हादसे में दोनों वाहनों में सवार लोग विवाह की खुशियों में शामिल थे एवं दुर्घटना के बाद उनकी खुशियों पर ग्रहण लग गया। बताया जा रहा है कि एक विवाह समारोह में शामिल होने अलवर के नीमराणा से चारों युवक स्वीफ्ट कार में बीकानेर के उदयरामसर जा रहे थे। वहीं दूसरी और बोलेरो में सवार घायल गांव ठुकरियासर निवासी गणेश सुथार का विवाह भी 8 दिसम्बर को ही हुआ था एवं वह टीका फेरा की रस्म के लिए अपने परिजनों के साथ अपने ससुराल रतनगढ़ तहसील के गांव सेला जा रहा था।
सामाजिक कार्यकर्ता बने संबल।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। क्षेत्र में बड़े हादसे की खबर सुन कर सामाजिक कार्यकर्ता भी चिकित्सालय पहुंचे एवं घायलों को संभाला। चिकित्सालय में सामाजिक कार्यकर्ता मदन सोनी, प्रियंक शाह, प्रदीप जोशी, सत्यनारायण स्वामी, मनोज डागा, भरत सुथार, जितेन्द्र भार्गव आदि सक्रिय रहे।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। घायलों को संभाला, भेजा बीकानेर।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। एक साथ सा घायल आने से चिकित्सालय का आपातकालीन वार्ड पड़ा छोटा।
श्रीडूंगरगढ टाइम्स। आपातकालीन वार्ड में बैड कम पडने से स्ट्रेचर पर ही किया गया प्राथमिक उपचार।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। चिकित्सालय में घायलों को संभालते सामाजिक कार्यकर्ता।