दहेज के रुपयों से कोचिंग की और बना आरएएस, अब पत्नी को ही काली, मोटी कह कर घर से निकाला, बेटी भी छीनी। श्रीडूंगरगढ़ थाने में हुवा आरएएस अफसर के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला।



श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 18 सितम्बर 2020। कस्बे की एक बेटी को विवाह के 7 वर्ष बाद पति के आरएएस बन जाने पर पति ने दहेज के लिए उसे काली मोटी बता कर घर से निकाल दिया और उसकी पुत्री को भी छिन लिया। दहेज के दानव ने कस्बे की एक बेटी की जिंदगी में इस कदर दु:ख भर दिए कि इस बेटी की व्यथा सुन कर हर किसी की आँखे नम हो रही है। श्रीडूंगरगढ़ कस्बे में अपने मान सम्मान के साथ एक लिपिक पद पर उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में नौकरी करने वाले सोहनलाल नाई अब एक बेबस बाप के रूप में अपनी बेटी के साथ श्रीडूंगरगढ़ पुलिस थाने पहुंचें है अपने आरएएस जंवाई के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज करवाया है। विडम्बना कि बात है कि जिस जंवाई को नौकरी लगवाने के लिए अपनी पेंशन के पैसे भी जंवाई की आईएएस कोचिंग पर खर्च कर दिए उसी जवांई ने आरएएस बनते ही उनकी बेटी को मोटी व काली बताते हुए दहेज की मांग पर छोड़ दिया। थानाधिकारी वेदपाल शिवराण ने बताया कि श्रीडूंगरगढ़ की दीनदयाल कालोनी निवासी सोहनलाल नाई की पुत्री शालीनी ने शुक्रवार को थाने में उपस्थित होकर रतनगढ़ थानाक्षेत्र के गांव कादिया ठठावता निवासी अपने पति रूपाराम, जेठ परमेश्वरलाल व जेठानी संतोषदेवी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। पीडिता ने पुलिस को बताया कि उसकी शादी 28 नवम्बर 2012 को हुई थी एवं शादी के बाद उसके एक पुत्री भी 5 सितम्बर 2014 में हुई थी। दोनो मौकों पर उसके पिता ने हैसीयत से कहीं अधिक दान दहेज दिया था। लेकिन आरोपी उसे कम दहेज देने एवं काली व मोटी होने का ताना देकर तंग परेशान करते रहे। शादी के बाद उसके पति ने आईएएस की कोचिंग के लिए पैसे लाने के लिए मजबूर किया एवं पीडिता के पिता ने उसे दिल्ली कोचिंग करवाने के लिए समय समय पर उसे 3.25 लाख रुपए नकद और दे दिए। पैसे देने के कुछ समय तक तो आरोपियों ने उसे आराम से रखा लेकिन पति का चयन आरएएस में होने के बाद से आरोपी उसे पांच लाख रुपए नकद, इनोवा कार एवं सोने के गहने और लेकर आने के लिए तंग परेशान करने लगे। आरोपियों ने और दहेज लाने की मांग के लिए गत 7 मई 2020 को उसका स्त्रीधन हडपते हुए मारपीट की एवं उसे उसके पिता के घर छोड़ गए। आरोपियों ने उससे उसकी बेटी भी छीन ली एवं दहेज नहीं देने पर आरएएस पति ने दूसरा विवाह करने की धमकी देकर उसकी बेटी को जबरन अपने साथ ले गए। पीड़िता की परिवाद पर पुलिस ने वर्तमान में फतेहपुर में सामाजिक न्याय अधिकारी के पद पर लगे हुए आरएएस पति सहित जेठ, जेठानी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।


विवाह में दिया भारी दायजा, फिर भी बेटी का घर नहीं बसा पाए पिता।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। आज भी समाज का ताना बाना ऐसा है कि एक पिता अपनी बेटी के विवाह में बहुत दहेज देते है और सम्भवतः उसकी खुशियां खरीदने का प्रयास करते है। फिर भी दहेज लोभी अधिक से अधिक मांग करते रहते है और बेटी का घर नहीं संवरता तो ठगा सा पिता अपनेआप को असहाय महसूस करता है। आज शालिनी के पिता ने साधारण विवाह से अधिक ही दहेज दिया था। उन्होंने बेटी की खुशियों के लिए हर संभव प्रयास किया और आज थाने पहुंच कर अपना दर्द बयान किया। शालिनी के पिता ने विवाह में सोने के गहनों में एक हार, एक चेन, एक कड़ा, दो पेंडल, ग्यारह अंगुठियां, झुमके, बालियां, टॉप्स, टीका सहित चाँदी के सामान में थाली, कटोरी, ग्लास,चम्मच, पूजा की थाली, पायल आदि दिए। शालिनी के पिता ने कार के लिए 3 लाख 80 हजार नगद दिए, बाटके में 1 लाख 21 हजार, 20 हजार की एफ डी भी करवाई। पुत्री जन्म पर और समय समय पर कोचिंग के लिए भी पिता ने नगद रूपए दिए और उसी जवांई ने आरएएस बनते ही बेटी को घर से निकाल उसकी पुत्री को भी छिनते हुए दूसरा विवाह करने की धमकी भी दी है।