बढ़ रही है स्टे की संख्या, 2 को होगी सामूहिक सुनवाई, बंद दुकानों में सिर्फ शराब की दुकान को खोला, व्यापार मंडल भी उतरा विरोध में, अतिक्रमण हटाओ अभियान में अपडेट




श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 24 जनवरी 2023। श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र में चल रहे नेशनल हाईवे पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाही में स्टे लेकर अपने निर्माण बचाने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। घूमचक्कर पर स्थित ऊपनी निवासी मामराज जाट को भी जोधपुर हाईकोर्ट द्वारा मंगलवार को स्टे मिल गया है एवं अभी तक कुल 14 पट्टे धारियों को स्टे दिया गया है। इन सभी स्टे पर आगामी 2 फरवरी को सामूहिक सुनवाई होगी। वहीं सुनवाई से पहले न्यायालय द्वारा सात विभागों से जवाब मांगा गया है एवं सभी का जवाब आने के बाद आगामी सुनवाई होगी। ऐसे में सभी स्टे धारियों को और समय मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है। वहीं दूसरी और संभागीय आयुक्त द्वारा रविवार को स्टे प्राप्त बिल्डिंग मालजी के कटले में व्यवसायिक गतिविधियां संचालीत नहीं होने की बात कहते हुए दुकानें बंद करवा कर चाबियां पुलिस को सुपुर्द की गई थी। लेकिन इस मामले में वहां स्थित एक शराब ठेके की चाबियां वापस दे दी गई एवं सभी दुकानों में से केवल शराब का ठेका खोलने की अनुमति देने पर प्रशासन की भी किरकीरी हो ही है। कस्बे के लोगों में यही चर्चा है कि प्रशासन की नजरों में जनता के निर्माण अवैध और सरकारी अतिक्रमण भी वैध है, उसी प्रकार अन्य दुकानें बंद रहने एवं सरकार को राजस्व देने वाली शराब की दुकान खुली रखने का सिस्टम भी यहां बना लिया गया है। मजे की बात है कि केवल मौखिक आदेशों पर वहां स्थित सैलून, पान, टी स्टाल, ज्यूससेंटर जैसे छोटे छोटे दुकानदारों को बंद रखा जा रहा है।

सुनो सरकार, व्यापार मंडल ने उठाई आवाज, अधिकारियों पर हो कार्रवाई, त्रस्त हो रहें है यात्री, परेशान है नागरिक।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 24 जनवरी 2023। एनएच 11 पर सड़क के दोनों ओर 30-30 मीटर की जगह खाली करवाने के लिए प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे तोड़फोड़ अभियान से क्षेत्र में व्याप्क नुकसान हो रहा है। इसका विरोध भी लगातार तेज हो रहा है एवं इस विरोध के क्रम में मंगलवार को व्यापार मंडल ने भी आवाज उठाई है। लोगों में ज्यादा रोष तो इस बात का है कि पट्टे होने पर भी बिना किसी सुनवाई के तानाशाही पूर्वक वर्षों से बनी दुकानों को बिना किसी मुआवजे के तोड़ा जा रहा है। व्यापार मंडल अध्यक्ष श्यामसुदंर पारीक ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर तानाशाही कर रहे अधिकारियों पर लगाम लगाने की मांग की है। ज्ञापन में कस्बेवासियों द्वारा सरकारी विभाग द्वारा 75 फीट की दूरी पर पट्टे जारी करने एवं निर्माण स्वीकृति मिलने के बाद ही अपनी दुकानें बनाने की जानकारी दी एवं अब मुआवजे के बाद ही हटाने की मांग की है। पारीक ने हाईवे का बाईपास निकालने एवं इस रोड़ को सामान्य रोड़ घोषित करने की मांग की। इसी प्रकार घूमचक्कर पर ही बस स्टैण्ड़ बनवाने की मांग भी ज्ञापन में की गई है। प्रशासन द्वारा सरदारशहर रोड़ पर बस स्टैण्ड़ को स्थापित करने की जिद से शहरवासियों को होने वाली दिक्कतों के बारे में भी ज्ञापन में बताया गया है।