क्षेत्र में टिड्डियों का बढ़ता प्रकोप अब ड्रोन से होगा टिड्डी नियंत्रण, पहली बार ड्रोन का कीटनाशक छिड़काव में प्रयोग।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 25 जून 2020। क्षेत्र में इस बार टिड्डियों का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। किसानों की फसलों को इनसे भारी नुकसान का अंदेशा जताया जा रहा है। बुधवार रात गांव लिखमादेसर में टिड्डियों ने डेरा डाला इन्हें नियंत्रित करने के लिए बीकानेर के लोकेस्ट सर्किल ऑफिस से ड्रोन मंगवाया गया है। कृषि विभाग की टीम ने गांव लिखमादेसर पहुंच कर ड्रोन की सहायता से करीब 250 हेक्टेयर में टिड्डियों को मारा।

लिखमादेसर में कृषि कुओं की बाहुल्यता के कारण विधायक गिरधारीलाल महिया ने भी विभाग को तुरंत कार्यवाही करने को कहा। लिखमादेसर में टिड्डी नियंत्रण कार्य क्षेत्र के नोडल अधिकारी कैलाश कुमार शर्मा के निर्देशन में किया गया। सहायक कृषि अधिकारी रमेश भाम्भू ने बताया कि कृषि विभाग की टीम टिडडी के पड़ाव लेते ही कीटनाशक रसायन लेकर रात्रि को गांव लिखमादेसर पहुंची। टीम में कृषि पर्यवेक्षक रमेश कुमार बाना, बनवारी लाल सैनी,पवन शर्मा व ओम कुलड़िया ने पूरी रात किसानों व जागरूक नागरिकों की मदद से खेतों में स्प्रे करने का कार्य किया। रमेश भाम्भू ने बताया कि श्रीडूंगरगढ़ में बुधवार को पहली बार टिड्डी नियंत्रण के लिए ड्रोन उतारा गया है। टीम ने ड्रोन की सहायता से अलसुबह तक छिड़काव किया। ड्रोन नियंत्रण का कार्य एलसीओ के शिवाजी वाबरे की टीम ने किया। टीम ने किसानों से दिन में टिडडी को खेत मे ना बैठने देने व रात्रि में पड़ाव की सूचना पटवारी, कृषि पर्यवेक्षक को देने की अपील की।
गाँव जालबसर में टिड्डी में भी रात 12:00 बजे कृषि विभाग की टीम पहुंची और किसानों के साथ मिल कर ट्रेक्टरों की सहायता से छिड़काव किया। टीम में कृषि पर्यवेक्षक राजुराम मेघवाल, ओम प्रकाश बाना और परतनाथ सिध्द शामिल रहें।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। क्षेत्र में पहली बार ड्रोन के प्रयोग से कीटनाशक का छिड़काव किया गया।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव लिखमादेसर में मूंगफली के खेत मे भारी तादात में मारी गयी टिड्डियां।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव जालबसर में भी टिड्डियों नियंत्रण कार्यवाही हुई और ट्रेक्टरों से छिड़काव किया गया।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव जालबसर के खेतों में कृषि विभाग द्वारा किसानों की सहायता से मारी गयी टिड्डियां।