March 1, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 27 अप्रैल 2021। श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र में काेराेना की दूसरी लहर बेकाबू हाे रही है एवं बेकाबू हाे रहे काेराेना काे राेकने के लिए श्रीडूंगरगढ़ प्रशासन अब जांचें कम करके आंकड़े काबू में करने का प्रयास कर रहा है। यह ताे साफ ताैर पर नजर आ रहा है कि इस बार प्रशासनिक असक्षमता के कारण काेराेना प्रसार काे राेकने के लिए काेई ठाेस कार्य क्षेत्र में नहीं हाे पाए एवं प्रशासन धरातल पर काम करने के बजाए केवल बैठकाें तक ही व्यस्त रहा और प्रतिफल रहा की क्षेत्र में 400 से अधिक काेराेना के एक्टिव मरीज है, जिनमे कईयाें की स्थिति गंभीर है। क्षेत्र के 7 लाेगाें ने ताे काेराेना से अपनी जान भी गंवाई है अाैर यह अांकड़ा ताे केवल काेराेना संक्रमित रहने के दाैरान हुई माैताें का है, काेराेना नेगेटिव हाेने के बाद पाेस्ट कोविड मृत्यु की ताे काेई गिनती ही नहीं है। इस भयावह स्थिति में एक अाैर जहां क्षेत्र के अाम लाेग, सामाजिक संगठन व जनप्रतिनिधि काेराेना जांचें बढ़ाने, काेराेना सैम्पल लेने के लिए कैम्पाें की संख्या बढ़ाने की मांग कर रहे थे वहीं दूसरी अाैर प्रशासन ने काेराेना की जांचें कम करने का अघोषित निर्णय ले लिया है। श्रीडूंगरगढ़ चिकित्सालय में जहां पहले सप्ताह में तीन दिन काेराेना की जांच की जा रही थी अाैर हर काेई यह मांग कर रहा था कि सैम्पल प्रतिदिन लिए जाएं। लेकिन प्रशासन ने प्रतिदिन लेने के बजाए सप्ताह में दाे दिन ही सैम्पल लेना तय कर दिया है। राजकीय चिकित्सालय प्रभारी डाक्टर एस.के. बिहानी ने बताया कि ब्लॉक सीएमएचअाे द्वारा मिले निर्देशाें के अनुसार अब चिकित्सालय में सप्ताह के प्रत्येक साेमवार व गुरूवार काे ही सैम्पल लिए जाएंगे। हालांकि लाेगाें की शिकायतें ताे यह है कि सैम्पल के लिए निर्धारित दिनाें में भी सैम्पल नहीं लिए जा रहे है। चिकित्सालय में सैम्पल के लिए निर्धारित दिनाें में यह हंगामा दिन भर देखा जा सकता है जब लाेग सैम्पल देने के लिए चिकित्सकाें के साथ बहस कर रहे हाेते है। सैम्पल लेने की इस मौखिक मनाही से भी काेराेना नियंत्रित किया जा रहा है। श्रीडूंगरगढ़ कस्बे में पिछले बुधवार काे 147, शनिवार काे 87 अाैर साेमवार काे केवल 51 सैम्पल ही लिए गए है। एेसे में सवाल ये उठ रहा है कि बीकानेर काेविड सेंटर में बिना सैम्पल रिपाेर्ट के किसी व्यक्ति की जांच तक नहीं हाे रही ताे एेसे में क्या सैम्पल नहीं लेकर अांकडाें पर नियंत्रण का प्रयास करना, काेराेना संदिग्धों की जान के साथ खिलवाड़ नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!