February 25, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 12 अप्रैल 2021। नजर चुकी दर्दनाक दुर्घटना घटी क्षेत्र में बच्चों के साथ  हो रहें दर्दनाक हादसों के क्रम में गांव सातलेरा में सोमवार शाम एक दर्दनाक घटना में डेढ़ वर्षीय बालक ने अपने प्राण गवां दिए। शाम 8 बजे के आस पास बालक पीयूष अपने पिता चुन्नीलाल जाखड़ के साथ गांव के घर से ट्यूबवेल पर जाने वाला था परंतु पिता से कुछ पल पहले करीब 7 बजे मौत पहुंच गई और नन्हें की जान ले गई। पीयूष ने खेलते खेलते घर में पानी चढ़ाने की मोटर को छू दिया और करंट ने डेढ़ वर्षीय बालक पीयूष की जान ले ली। पीयूष खेत में ही रहता था और कल गांव में रहने वाले अपने दादा दादी व बहनों से मिलने  पिता के साथ गांव आया था। आज घर मे कोहराम मचा है और बच्चे के दादा खुम्माराम जाखड़ व दादी, अध्यापक पिता चुन्नीलाल व माता को परिजन मुश्किलों से संभालने का प्रयास कर रहें है। सभी उस घड़ी को कोस रहें है जिस पल पीयूष से नजर हटी और ये हादसा हो गया। पीयूष की बड़ी पर नन्हीं तीन बहनें लाडले भाई को बार बार पुकार रहीं है। परिजन उसे लेकर अस्पताल दौड़े आए परन्तु चिकित्सकों ने बालक को मृत घोषित कर दिया। नागरिक अभी गांव हिम्मतासर में हुई पांच बच्चों के बाद एक बच्चे की मौत को भूले ही नहीं कि गांव सातलेरा में फिर ये दर्द का दरिया उठा है। इस दर्द को जिसने सुना वही इसमें शरीक हो गया और लोग अपने घर फोन करके बच्चों की खैरियत पूछने लगे है। वे अपने परिजनों को बच्चों पर हर पल नजर रखने की हिदायत भी दे रहें है। श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स ने मानवीय संवेदनाओं को आहत नहीं करने के भाव के साथ सोमवार रात यह खबर नहीं लगाई क्योंकि बच्चे की माता-दादी, बहनों को बताया गया था कि बालक को इलाज के लिए बीकानेर ले गए है। ऐसे में परिजनों ने पूरी रात करुण पुकार में बिताई। सुबह करीब 7.30 बजे बालक के शव को घर ले जाया गया है व सभी ग्रामीण भी पहुंच गए है। श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स लगातार क्षेत्र वासियों से, अभिभावकों से अपील कर रहा है की अपने बच्चों का ख्याल रखें और उन्हें अकेला ना छोड़े। जागरूक पाठकों का भी येे मत है कि अभिभावकों की नजर होती तो संभवतया पीयूष सबके बीच होता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!