February 22, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 21 नवबंर 2020। जनता है और ये सब समझती है.. श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र की जनता के लिए ये ठीक ही बैठता है क्योंकि राज परिवर्तन की बात हो या चुने हुए नेता को भी खरी खरी कहनी हो। क्षेत्र के गांवो में नेताओं से साफ साफ कह रही जनता का मन लेना आसान नहीं लग रहा है। नेताओं को मौके पर ही ओलमे भी दे रहें है और उन्हें वोट देने का आश्वासन भी दे रहें है। नेताओं के तूफानी दौरे चल रहें है और अलसुबह से देर रात तक वे मैदान में अपने प्रत्याशियों के समर्थन मे वोट मांग रहें है। क्षेत्र में प्रधानी का चुनाव जबरदस्त रोचक हो गया है और ऐसे में नेताओं ने बयान भी क्षेत्र की राजनीति में हलचल मचा रहें है। शुक्रवार को भाजपा के देहात जिलाध्यक्ष के तूफानी दौरो में तूफानी बोल भी तूफान की तरह सोशल मिडिया पर छाए रहें। उनके बयान से क्षेत्र के विधायक समर्थित नागरिक खासा नाराज भी हुए। कई बार देखा गया है कि राजनीतिक मंचो पर बड़बोलापन अक्सर संवेदनाओं को जागृत कर देता है। जिलाध्यक्ष शुक्रवार को एक और विधायक के लिए प्रयोग में लिए शब्दों से चर्चा में रहें वहीं दूसरी और श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत मोमासर के उपसरपंच जुगराज संचेती के बारे में व्यक्त विचारों के लिए भी विवादों में घिर गए। संचेती ने भी फेसबुक पर लाइव आकर जिलाध्यक्ष को जवाब भी दिया। मोमासर में घमासान छिड़ गया और वहां चुनावों को रोचक कर दिया है। क्षेत्र में खुल कर आमने सामने सीपीएम-भाजपा-कांग्रेस के नेता आरोप प्रत्यारोप लगा रहें है और ये चुनाव राजनीतिक वर्चस्व की जंग साबित होगा। जिस गांव में नेता जा रहें है उसी गांव के ग्रामीण उन्हें यही कह रहें है कि वोट तो आपको ही देंगे ऐसे में नेताओं की मुश्किलें बढ़ गई है क्योंकि राजनीतिक विश्लेषकों का मत भी यही आ रहा है कि इस बार क्षेत्र की जनता का रूख अस्पष्ट है। तीनों बड़ी पार्टियों ने पूरी ताकत झोंक रखी है आज शाम से चुनाव प्रचार बंद होगा और घर घर सम्पर्क कार्यकर्ता करेंगे। चुनाव के बारे में सभी प्रकार की खबरों के लिए आप जुड़े रहें श्रीडूंगरगढ टाइम्स के साथ और पल पल की प्रामाणिक व विश्वसनीय खबरों से रहें अपडेट।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!