February 27, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 13 अक्टूबर 2020। श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र में पशुपालन विभाग क्षेत्र के 90 प्रतिशत पशुओं को पहचान नम्बर देने व टीकाकरण करने में जुटा है। क्षेत्र में 1 लाख 97 हजार 944 पशु रिकॉर्ड में है और इनमें से 1 लाख 79 हजार 150 पशुओं को टैग लगा कर टीका लगाने का लक्ष्य विभाग द्वारा लिया गया है। पूरे श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र को विभाग ने 12 ब्लॉक में बांटा है तथा 12 टीमें बनाई है जिन्होंने टीकाकरण व टैग लगाने का कार्य सोमवार से प्रारंभ कर दिया है। विभाग के कर्मचारियों ने सोमवार को 440 पशुओं का टीकाकरण कर दिया है। विभाग के कर्मचारी डोर-टू-डोर टीकाकरण कर रहें है और पशुपालकों के लिए गाय व भैंस का टीकाकरण करवाना जरूरी है जिससे उनके दुधारू पशु खुरपका व मुंहपका जैसी जानलेवा बीमारी से बच सके।

क्या है ईयर टैग.? जाने और जरूर करवाएं, अन्य को करें जागरूक।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। टीकाकरण के साथ ही पशुओं के कान में टैग लगाया जा रहा है जिसे पशुपालक कम समझ पा रहें है। अभियान के श्रीडूंगरगढ़ नोडल प्रभारी डॉ. उत्तम भाटी ने जानकारी देते हुए बताया कि इससे पूर्व में पशुओं का टीकाकरण किया जाता था परन्तु टैग नहीं लगाया जाता था इस बार टीकाकरण में नवीनता है कि सभी पशुओं को टैग नम्बर देने की है। सभी पशुओं को टैग लगाना आवश्यक है क्योंकि इस टैग से ही पशुपालकों को आगामी सरकारी योजनाओं व पशु बीमा का फायदा मिल सकेगा। भाटी ने कहा कि क्षेत्र के पशुपालक अपने पशुओं को टैग लगवाते हुए टीकाकरण अवश्य करवाएं। यह टैग 12 अंकों का एक यूनिक कोड नम्बर है जो पशु का पहचान नम्बर होगा जिसे पशु के कान में लगाया जा रहा है। इससे आने वाले समय में ऑनलाईन पशुओं के क्रय विक्रय में पशुपालकों को उचित राशि मिल सकें। भाटी ने कहा कि क्षेत्र के पशुपालक अपने विभागीय कर्मचारी से संपर्क कर आवश्यक रूप से टैग लगावें। उन्होनें कहा कि टैग लगने के बाद 2 से 3 दिन तक कान का गंदगी से बचाव करें तथा कान में सूजन या घाव हो तो एंटीसैप्टीक से साफ करें व पशुचिकित्सक से संपर्क कर उपचार प्राप्त करें। भाटी ने कहा कि आगे एफ.एम.डी एवं ब्रूसेला का टीकाकरण कार्यक्रम का लाभ केवल उन्हीं पशुओं को प्राप्त हो सकेगा जिनके टैग लगा होगा।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। डॉ उत्तम भाटी सहित विभाग की 12 टीमें पूरे क्षेत्र में पशुओं के टैग लगाने व टीकाकरण में जुटें हुए है।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव बाडेला में भी डोर टू डोर विभाग द्वारा पशुओं का टीकाकरण किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!