April 25, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 3 अप्रैल 2024। क्षेत्र के गांव बाडेला में इन दिनों ग्रामीण जंगली मधुमक्खियों से बुरी तरह से परेशान है। यहां तीन सार्वजनिक स्थानों पर इन मधुमक्खियों के बड़े बड़े छत्तों से रोजाना ये मक्खियां करीब आधा दर्जन लोगों को काट कर जख्मी करती है। ग्रामीण मधुमक्खियों के काटने के टीके लगवाते है जिससे वे दर्द के बाद होने वाली एलर्जी से बच सकें। गांव में आयुर्वेदिक औषधालय के मुख्य गेट के भीतर खड़े नीम के पेड़ पर जंगली मधुमक्खियों ने विशाल छत्ता डाला है जिससे मरीज औषधालय के अंदर आने से ही घबराते है। दूसरा सरकारी पीएचसी के पास स्थित नीम के पेड़ के पर बड़ा छत्ता है जहां बाडेला सहित आस पास के गांवो से भी गर्भवती महिलाएं आती है। जो इन मधुमक्खियों का शिकार होने से बचते बचाते ईलाज ले पाती है। अनेक मरीज व उनके परिजन इन मधुमक्खियों से परेशान होते है। वहीं गांव के मुख्य सड़क के पास ही स्थित एक पेड़ पर इन्हीं जंगली मधुमक्खियों ने एक बड़ा सा छत्ता डाल रखा है। यहां नीचे से गाड़िया निकलने के दौरान ये उड़ने लगती है और यहां से स्कूल के लिए गुजरने वाले बच्चों को डंक मारती है। उन बच्चों को तुरंत एविल टीके लगवाने पड़ते है। उमावि के मार्ग में आने वाले इस छत्ते से बच्चे स्कूल जाने से भी डरने लगते है। गांव के जागरूक युवा बाबूलाल ज्याणी ने बताया कि गांव के ग्रामीण प्रशासन से इन छत्तों को नष्ट करवाने व हटवाने की मांग कर रहें है। महिलाएं व बच्चों सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण आबादी इन छत्तों के आतंक से परेशान है।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। आयुर्वेदिक औषधालय के पास मधु मक्खियों के डर से मरीज डरते है।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव बाडेला में पीएचसी के मुख्य द्वार के पास ही स्थित पेड़ पर बड़ा छत्ता है।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव के मुख्य रास्ते पर स्थित इस छत्ते से विद्यार्थी घबराने लगे है।
error: Content is protected !!