June 25, 2024

श्रीडूंगरगढ टाइम्स। परिसीमन समीक्षा बैठक को संबोधित करते विधायक गिरधारी महिया।

श्रीडूंगरगढ टाइम्स 10 अगस्त 2019। परीसीमन के विरोध में सभी पार्टियों के नेता एक मैदान में डट गये है व अपने अपने क्षेत्र में विरोध के लिए सिपाहियों की नियुक्ति दे दी है। परीसीमन द्वारा राजनैतिक स्वार्थ की पूर्ती नहीं होने देने का ऐलान इन नेताओं ने मंच से कर दिया है। श्रीडूंगरगढ पुस्तकालय में आज क्षेत्र के कद्दावर नेता जुड़े व नयी सीमाओं पर विस्तृत चर्चा की। अब इन सभी ने 19 अगस्त को 12 बजे बीकानेर पंहुच कर कलेक्टर के सामने मैदान में खुली जंग आंदोलन के रूप में करने का निर्णय लिया। बैठक में प्रदर्शन से जुड़ी जिम्मेदारियां अपने अपने क्षेत्र के नेताओं को सौपीं गयी।  परिसीमन समीक्षा बैठक में पूर्व विधायक मंगलाराम गोदारा पर आरोप लगाये गये कि वे 22 ग्राम पंचायतों के ग्रामीणों, ग्रामीण जनप्रतिनिधियों की समस्याएं घटाने की बजाय बढ़ाते हुए अपने राजनैतिक स्वार्थपूर्ति के लिए अपने पैतृक गांव को पंचायत समिति मुख्यालय बनवा रहे है। इसे राजनीतिक हथकंडा बताते हुए नेताओं ने सामूहिक आंदोलन की चेतावनी दी। सरपंच एसोसीएशन के अध्यक्ष रतनसिंह राठौड़ ने कहा कि बैठक का आयोजन क्षेत्र की जनता की भावनाओं के अनुरूप किया गया है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए पूर्व सरपंच हुकमाराम डूड़ी ने कहा कि ये अलोकतांत्रिक निर्णय हम पर थोपा गया तो हम आंदोलन को तेज करेंगे व हरगिज इस निर्णय को सहन नहीं किया जाएगा। क्षेत्र के विधायक गिरधारी महिया ने कहा कि परिसीमन जैसे खास मुद्दों में सस्ती राजनीति न देख कर जनता का हित ऊपर रखना चाहिए। लेकिन यहां जनता के पैसे का सदुपयोग पूर्व नेताओं ने कहाँ किया वे अपनी ही रोटियां सेकतें रहे वे आज भी वही कर रहे है। ऊपनी पंचायत समिति बनने से जनता की परेशानियाँ बढेंगी जो सहन नहीं किया जाएगा। बैठक में विधायक सहित बड़ी संख्या में सरपंच, पूर्व सरपंच, पंचायत समिति सदस्य, जिला परिषद सदस्य एवं सभी दलों से जुड़े नेता उपस्थित रहे। सभी ने एक स्वर में भौगोलिक रूप से विषम परिस्थितियों के कारण ऊपनी में पंचायत समिति मुख्यालय बनाने का विरोध किया एवं दुसरी पंचायत समिति का मुख्यालय भी श्रीडूंगरगढ़ ही रखवाने के लिए आंदोलन करने का निर्णय लिया।

 

राजनीतिक प्रतिस्पर्धा को भूला, क्षेत्र हित को साथ आये नेता

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। ग्राम पंचायत ऊपनी को नवगठित पंचायत समिति का मुख्यालय बनाने के विरोध में आयोजित बैठक में अलग अलग पार्टियो में एक दुसरे की आलोचना करने वाले नेता एक मंच पर दिखे। सार्वजनिक पुस्तकालय सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक में जिला परिषद सदस्य एवं युथ कांग्रेस अध्यक्ष हरीराम बाना, कांग्रेसी नेता तुलछीराम गोदारा, भाजपा नेता तोलाराम जाखड़, माकपा नेता रामेश्वरलाल बाहेती, सामाजिक कार्यकर्ता एडवोकेट भरतसिंह राठौड़, नारायण नाथ सिद्ध, सरपंच ऐसोसीएशन अध्यक्ष रतनसिंह राठौड़, ऐसोसीएशन प्रदेश मंत्री प्रियंका सिहाग, सहित बाना, बींझासर, बाडेला, ठुकरियासर, बिग्गा, देराजसर, रिड़ी, सुरजनसर, बापेऊ सहित कई ग्राम पंचायतों के सरपंच, कांग्रेस पूर्व ब्लाक अध्यक्ष नारायणनाथ सिद्ध, श्रवणकुमार भाम्भू, रामचंद्र नैण, हिम्मताराम पूंदलसर, रूपनाथ पूनरासर, प्रभूनाथ गोदारा, मामराज आंवला, आसुराम जाखड़, दौलतराम मेघवाल, नानूराम जाखड़, मामराज गोदारा, सोहनसिंह पुंदलसर, गोपाल भादू सहित बड़ी संख्या में सक्रिय नागरिक उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!