February 29, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 28 मई 2021। भुजंग संस्कृत से लिया हुआ एक शब्द है जिसका अर्थ है सर्प। इसलिए भुजंगासन को सर्पआसन या कोबरा पोज भी कहते हैं क्योंकि इस आसन में हमारा शरीर एक सर्प की भांति होता है। सभी योगासनों में भुजंगासन एक प्रसिद्ध आसन माना जाता है। पीठ दर्द के रोगियों के लिए यह आसन अत्यंत लाभदायक है। प्रतिदिन यह आसन करने से कंधे, कोहनी, पीठ, गर्दन और लीवर को मजबूती मिलती है।

भुजंगासन करने की विधि

1. भुजंगासन करने के लिए सर्वप्रथम पेट के बल लेट जाइए।
2. इसके बाद हथेलियों को कंधे के पास रखिए।
3. अपने दोनों पैरों को पीछे की तरफ खींचते हुए सीधा रखिए और दोनों पैरों के बीच में दूरी नहीं होनी चाहिए।
4. इसके बाद साँस लें और शरीर के अगले भाग को ऊपर की ओर उठाएं।
5. इस वक्त एक बात का ख्याल रखें कि कमर पर ज्यादा खिंचाव ना आने पाए।
6. 10-20 सेकंड्स के लिए इसी अवस्था में बने रहिए।
7. फिर सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाएं।
8. शुरुआती दिनों में दो से तीन बार इसे करिए और फिर धीरे-धीरे इसकी संख्या बढ़ाइए।

भुजंगासन से जुड़ी सावधानियां

1.हर्निया से पीड़ित व्यक्ति इस आसन को ना करें।
2. पेट दर्द होने पर यह आसन ना करें।
3. गर्भवती महिलाएं इस आसन को बिल्कुल ना करें।
4. हाथ, पीठ और गर्दन में दर्द या चोट है तो इस आसन को मत करिए।
5. आसन करते समय अपने सर को पीछे की ओर ज्यादा ना झुकाएं वरना मांसपेशियों में खिंचाव आ सकता है।
6. अपनी क्षमता के अनुसार आसन कीजिए।

भुजंगासन करने के फायदे

1. पीठ के दर्द के लिए अत्यंत लाभदायक आसन।
2. गले से संबंधित रोग में फायदा मिलता है।
3. लड़कों को यह आसन अवश्य करना चाहिए इससे उनकी छाती चौड़ी होती है।
4. इस आसन को करने से कमर से संबंधित परेशानियां जैसे दर्द या झुकाव दूर हो जाता है।
5. यह आसन रीढ़ की हड्डी को सक्रिय बनाता है।
6. इस आसन से पैंक्रियाज सक्रिय होता है जिसके कारण हमारे शरीर में अच्छी मात्रा में इंसुलिन बनना शुरू हो जाता है। इसलिए डायबिटीज से जुड़े व्यक्तियों को भुजंगासन जरूर करना चाहिए।
7. पेट और कमर दर्द से छुटकारा मिलता है।
8.पेट के अंगो को सुचारू रूप से कार्य करवाने में यह आसन मदद करता है।
9. मोटापा कम करने में भी यह आसन लाभदायक है।
10. तनाव से जुड़ी परेशानियों से मुक्ति मिलती है।
(इस बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए सम्पर्क करें राजू हीरावत से 94145 87266 नम्बर पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!