March 1, 2024

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स 1 सितंबर 2020। क्षेत्र में विद्युत विभाग की समस्याओं से जनता त्रस्त है और विद्युत विभाग में सुनवाई नहीं करने का रिवाज है। जिलाकलेक्टर द्वारा फोन उठाने के निर्देशों के बावजूद विभागीय अधिकारी फोन नहीं उठाते और किसान व ग्रामीण परेशान होते रहते है। क्षेत्र के ऊपनी जीएसएस पर बड़ी संख्या में किसानों ने आज प्रदर्शन करते हुए किसान एकता के नारे लगाएं। यहां सोमवार को एक ही दिन में तीन बार बिजली के अप-डाउन से बड़ी संख्या में किसानों के कृषि कुओं पर ट्रान्सफार्मर, मीटर, मोटरें, बुस्टर व अन्य बिजली उपकरण जल कर राख हो गए। इससे किसानों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है और इसी दर्द से आहत किसानों ने आज सुबह किसानों ने भंवरलाल गोदारा के नेतृत्व में किसानों ने एकत्र होकर जीएसएस पर जमकर रोला किया। किसानों ने विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया कि विभाग की लापरवाही का खामियाजा किसान क्यों भुगते। किसानों ने विभाग के अधिकारी को ज्ञापन सौंपते हुए ऊपनी फीडर का वोल्टेज बढ़ाने व सप्लाई नहीं काटने की मांग करते हुए आंदोलन की चेतावनी दी।

सातलेरा में जर्जर बिजली तारों के कारण गांव की सुरक्षा खतरे में।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। श्रीडूंगरगढ़ के निकटवर्ती गांव सातलेरा में जर्जर बिजली तारों के कारण गांव की सुरक्षा खतरें में है। गांव में आज सुबह धमाकों के साथ बिजली के तार टूट कर गिर गए व उसे दुरस्त कर सप्लाई शुरू करते ही दूसरी जगह से फिर धमाकों के साथ चिंनगारिया निकली और तार टूट कर गिर गए। ज्ञात रहे शनिवार को भी गांव में बिजली तार टूट कर गिर गए जिसें टाइम्स में प्रमुखता से प्रकाशन के बाद शाम को ही विभाग ने तुरंत कार्यवाही करते हुए दुरस्त कर दिया। गांव की बिजली आपूर्ति 10 घंटो से बंद है और ग्रामीणों में जबरदस्त आक्रोश है। सरपंच प्रतिनिधि भीखराज जाखड़ ने बताया का आरोप है कि बार बार विभाग को पुराने केबल बदल कर नई केबल लगाने की मांग कई बार की गई है परन्तु विभाग भी किसी बड़ी अनहोनी होने का इंतजार कर रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि दोपहर बाद जब तार टूट कर गिरे तो वहां से ग्रामीण गुजर रहे थे और धमाके की आवाज के साथ लोगों ने एक ओर भाग कर जान बचाई है।

श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। ऊपनी जीएसएस पर किसानों ने जमकर रोष प्रकट किया।
श्रीडूंगरगढ़ टाइम्स। गांव सतलेरा में आज जर्जर केबल के कारण एक ही दिन में दूसरी बार तार टूट कर गिरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!